सावन के माह में ऐसे करें भगवान शिव को प्रसन्न


भगवान शिव बहुत भोले हैं, वे अपने भक्तों के दुख और तकलीफों को देख नहीं पाते, भक्त के आंसू महादेव को बहुत ही जल्द पिघला भी देते हैं। महादेव की इसी खूबी की वजह से महादेव के भक्त उन्हें भोलेनाथ भी कहते हैं।

भोलेनाथ को सावन का ये पावन महीना अत्यंत प्रिय है, सावन के महीने में शिव पूजा का महत्व भी बहुत बढ़ जाता है। ऐसा माना जाता है कि अगर सावन के महीने में शिव भक्त श्रद्धा भावना के साथ शिव जी की आराधना की जाए तो जातक को महादेव की कृपा अवश्य प्राप्त होती है।

Also Read: भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए कौन से द्रव्य चढाए

हिन्दू धर्म में हर देवी-देवताओं की पूजा करने के कुछ विशिष्ट विधान मौजूद हैं, जैसे माना जाता है कि भगवान कृष्ण की पूजा में माखन-मिसरी का भोग अवश्य लगाना चाहिए, वैसे ही गणेश जी को मोदक अत्यंत प्रिय है, इसलिए उनकी पूजा में मोदक का भोग अवश्य लगता है। इष्ट देव को प्रसन्न करने के लिए ऐसी ही अनेक पूजा विधियां हैं।Lord Shiv

प्राचीन शिवपुराण में आदिशंकर को प्रसन्न करने के उपाय बताए गए हैं। इनका पालन करने से भोलेनाथ शीघ्र प्रसन्न होते हैं। शिवपुराण के अनुसार भगवान शिव को प्रसन्न करने के उपाय इस प्रकार हैं.

शिवपुराण के अनुसार इन उपायों से भगवान शिव को आसानी से प्रसन्न किया जा सकता है :-

– शिव पुराण के अनुसार जातक अगर धन लाभ या संपत्ति लाभ प्राप्त करना चाहता है तो उसे शिवलिंग पर कच्चे चावल चढ़ाने चाहिए, इससे अवश्य ही शुभ फल प्राप्त होगा।

Also Read: भगवान शिव को कौन से फूल चढ़ाने से कौन सा फल मिलता है

– भगवान शिव को तिल अर्पित करने से समस्त पापों का नाश होता है, यह उपाय कर्मक्षय करने में बहुत लाभदायक है।

– अगर लंबे समय से कोई परेशानी चल रही है या घर में सुख-समृद्धि बाधित है तो शिवलिंग पर जौ चढ़ाएं, इससे अवश्य ही फर्क महसूस करेंगे।

– संतान की कामना करते हैं तो शिवलिंग पर गेहूं चढ़ाएं। इसके अलावा सुयोग्य पुत्र की प्राप्ति हेतु शिवलिंग पर धतूरे के फूल अर्पित करें, महादेव आपकी प्रार्थना अवश्य सुनेंगे।

– पढ़ाई में तेज होने के लिए या मस्तिष्क को मजबूत करने के लिए दूध में चीनी मिलाकर भगवान शिव को चढ़ाएं।

– शिवलिंग पर गंगा जल अर्पित करने से मनुष्य को भौतिक सुखों के साथ-साथ मोक्ष की प्राप्ति भी होती है।

– शारीरिक दुख और दुर्बलता से मुक्ति पाने के लिए शिवलिंग पर गाय के दूध से बना शुद्ध देसी घी चढ़ाएं। लंबी उम्र की कामना हेतु दूर्वा से भगवान शिव की पूजा करें।

यह सभी अन्न भगवान को अर्पण करने के बाद जरूरतमंदों में बांट देना चाहिए।

शिव की पूजा से बढ़ाए आमदनी 

सावन के महीने में किसी भी दिन घर में पारद शिवलिंग की स्थापना करें और उसकी यथा विधि पूजन करें। इसके बाद नीचे लिखे मंत्र का 108 बार जप करें-

ऐं ह्रीं श्रीं ऊं नम: शिवाय: श्रीं ह्रीं ऐं

प्रत्येक मंत्र के साथ बिल्वपत्र पारद शिवलिंग पर चढ़ाएं,  बिल्वपत्र के तीनों दलों पर लाल चंदन से क्रमश: ऐं, ह्री, श्रीं लिखें। अंतिम 108 वां बिल्वपत्र को शिवलिंग पर चढ़ाने के बाद निकाल लें तथा उसे अपने पूजन स्थान पर रखकर प्रतिदिन उसकी पूजा करें।

Also Read: सोमवार व्रत का महत्व और पूजा विधि

संतान प्राप्ति के लिए अद्भुत उपाय

सावन में किसी भी दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद भगवान शिव का पूजन करें, इसके पश्चात गेहूं के आटे से 11 शिवलिंग बनाएं। अब प्रत्येक शिवलिंग का शिव महिम्न स्त्रोत से जलाभिषेक करें। इस प्रकार 11 बार जलाभिषेक करें, उस जल का कुछ भाग प्रसाद के रूप में ग्रहण करें। यह प्रयोग लगातार 21 दिन तक करें। गर्भ की रक्षा के लिए और संतान प्राप्ति के लिए गर्भ गौरी रुद्राक्ष भी धारण करें। इसे किसी शुभ दिन शुभ मुहूर्त देखकर धारण करें।

उत्तम स्वास्थ्य और बीमारी ठीक करने के लिए उपाय

सावन में किसी सोमवार को पानी में दूध व काले तिल डालकर शिवलिंग का अभिषेक करें, अभिषेक के लिए तांबे के बर्तन को छोड़कर किसी अन्य धातु के बर्तन का उपयोग करें। अभिषेक करते समय   जूं स: मंत्र का जाप करते रहें। इसके बाद भगवान शिव से रोग निवारण के लिए प्रार्थना करें और प्रत्येक सोमवार को रात में सवा नौ बजे के बाद गाय के सवा पाव कच्चे दूध से शिवलिंग का अभिषेक करने का संकल्प लें। इस उपाय से बीमारी ठीक होने में लाभ मिलता है।


सुनील कुमार

Back to top