Category: History Of India

दादर और नगर हवेली की अनुसूचित जनजातियां

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

दमन और दीव की अनुसूचित जनजातियां

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

छत्तीसगढ़ की अनुसूचित जनजातियां

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था। ये…

बिहार की अनुसूचित जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

असम की अनुसूचित जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ उत्तरभारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

अरुणाचल प्रदेश की अनुसूचित जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ उत्तरभारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

आंध्रप्रदेश की अनुसूचित जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ उत्तरभारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

अंडमान और निकोबार की जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ उत्तरभारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था। ये…

क्या आपको पता है भगवान् श्री राम के पूर्वजों के बारे में ? क्यों कहा जाता है रधु कुल रीत सदा चली आई प्राण जाये पर वचन ना जाये

क्या कभी आपने सोचा है की प्रभु  श्री राम चन्द्र जी के दादा परदादा का क्या नाम  था? आखीर क्यों पड़ा प्रभु  श्री राम चन्द्र जी के वंश का नाम रघुवंश और क्यों कहा जाता है रधु कुल रीत सदा…

भारत ने कब और किस-किस से लड़े युद्धों की जानकारी

यहां पर हम आपको भारत की आजादी के बाद हुए प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच हुए की जानकारी  बताने जा रहे है। और इतिहास की परीक्षा में प्रमुख युद्धों के नाम, कब और किसके बीच हुए के आधार पर ज्यादातर प्रश्न…

Back to top