Category: News

दादर और नगर हवेली की अनुसूचित जनजातियां

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

दमन और दीव की अनुसूचित जनजातियां

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

छत्तीसगढ़ की अनुसूचित जनजातियां

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था। ये…

बिहार की अनुसूचित जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

असम की अनुसूचित जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ उत्तरभारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

अरुणाचल प्रदेश की अनुसूचित जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ उत्तरभारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

आंध्रप्रदेश की अनुसूचित जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे जाति कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ उत्तरभारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था।…

अंडमान और निकोबार की जनजातियाँ

जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ उत्तरभारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था। ये…

गर्भवती महिलाओं को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

माँ बनने का सुखद अहसास इस दुनिया का सबसे खूबसूरत लम्हा है मगर माँ बनना भी किसी जंग से कम नहीं, पूरे 9 माह तक शिशु को गर्भ में रखना उसके आने के बाद उसे फूल की तरह उस शिशु…

भूलकर भी कभी किन्नरों को दान में ना दे ये चीजें

किन्नर शब्द सुनते ही एक ऐसी प्रजाति का ख्याल आता है। जो ना तो पुरूष है और ना ही स्त्री। भारत में आज भी देखे तो किन्नर समुदाय को शादी विवाह जन्मोत्सव आदि में शिरकत करते अक्सर देखा जा सकता…

Back to top