सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में पूरी जानकारी


अगर आप किसी पुत्री के पिता है और उसकी बढती उम्र के साथ आपकी टेंसन भी बढती है की पुत्री की पढाई और शादी का खर्चा कैसे अपनी छोटी सी सैलरी से करूँगा? तो अब भारत सरकार आपके लिए लाई हे एक नई योजना जो आपकी पुत्री की शादी के खर्चे में आपकी बहुत मदद करेगा| सुकन्या समृद्धि योजना का उद्देश्य पुत्रियों की पढ़ाई और उनकी शादी पर आने वाले खर्च को आसानी से पूरा करना है। योजना के अंतर्गत पुत्री की पढ़ाई व शादी के लिए डाक विभाग के पास ‘सुकन्या समृद्धि योजना’ का अकाउंट खुलवाया जा सकता है। डाक विभाग के किसी भी पोस्ट ऑफिस के साथ अकाउंट खोलने के लिए सुविधा सेंटर में भी अलग काउंटर खुलेगें।

पुत्रियों के भविष्‍य के लिए पैसे जोड़ने के लिए सुकन्‍या समृद्धि योजना एक अच्‍छी स्‍कीम है। इस योजना पर न सिर्फ पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) की तुलना में ज्‍यादा ब्‍याज मिलेगा बल्कि, यह माता-पिता की टैक्‍स प्‍लानिंग में भी मददगार साबित होती है। आप अपनी 10 साल तक की बेटी के लिए यह खाता खुलवा सकते हैं। इस पर वर्तमान में 8.1 फीसदी सालाना का ब्‍याज मिल रहा है जो पीपीएफ के मुकाबले अधिक है।

सुकन्‍या समृद्धि खाते की जानकारी

इस अकाउंट में एक फाइनेंशियल ईयर में कम से कम 1 हजार और अधिक से अधिक डेढ़ लाख रुपया या इसके बीच की कितनी भी रकम जमा कर सकते हैं। यह पैसा अकाउंट खुलने के 14 साल तक ही जमा करवाना पड़ेगा। मगर, खाता पुत्री के 21 साल की होने पर ही मैच्योर होगा। पुत्री के 18 साल के होने पर आप आधा पैसा निकलवा सकते हैं।

21 साल के बाद खाता बंद हो जाएगा और पैसा गार्जियन को मिल जाएगा। अगर आपकी पुत्री की 18 से 21 साल के बीच शादी हो जाती है तो खाता उसी वक्त बंद हो जाएगा। अगर आपकी पेमेंट जमा करने में लेट हुई तो सिर्फ 50 रुपए की पैनल्टी आप पर लगेगी। गार्जियन अपनी दो पुत्रियों के लिए दो अकाउंट खोल सकते हैं। जुड़वां होने पर उसका प्रूफ देकर ही तीसरा खाता खोल सकेंगे। खाते को आप कहीं भी ट्रांसफर करा सकेंगे।

10 वर्ष की उम्र तक पुत्रियों का खुलेगा खाता

इस स्कीम का लाभ आप तभी उठा सकते हैं जब आपकी पुत्री की उम्र अधिकतम 10 वर्ष तक ही हो और अगर आपकी पुत्री की आयु तय सीमा के अंतगत है तो आपको अकाउंट खुलवाते समय कम से कम 1000 रुपए का निवेश करना होगा, बाकी इसके अलावा आप एक वित्त वर्ष में इस स्कीम के तहत 1.50 लाख रुपए तक का निवेश कर सकते हैं. इस स्कीम के तहत जिस व्यक्ति ने खाता खुलवाया होगा उसे 14 साल तक इन्वेस्टमेंट करनी होगी और 14 वर्ष इन्वेस्ट करने के बाद 21 साल में मैच्योर होगी.

कौन खुलवा सकता है सुकन्‍या समृद्धि खाता

आप यह खाता तभी खुलवा सकते हैं जब आप पुत्री के प्राकृतिक या कानूनन रूप से अभिभावक हों।
आप एक पुत्री के नाम ऐसा एक ही खाता खुलवा सकते हैं।
कुल मिला कर आप दो पुत्रीयों के नाम से यह खाता खुलवा सकते हैं
लेकिन अगर दूसरी पुत्री के जन्‍म के समय आपको जुड़वां पुत्रीयां होती है तो आप तीसरा खाता भी खुलवा सकते हैं।
पोस्ट ऑफिस के अलावा कई सरकारी व निजी बैंक भी इस योजना के तहत खाता खोल रही हैं।
सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खातों पर आयकर कानून की धारा 80-जी के तहत छूट दी जाएगी।

सुकन्‍या समृद्धि खाता खुलवाने के लिए इन दस्‍तावेजों की होती है जरूरत

सुकन्‍या समृद्धि अकाउंट खुलवाने का फॉर्म।
पुत्री का जन्‍म प्रमाणपत्र।
जमाकर्ता (माता-पिता या अभिभावक) का पहचान पत्र जैसे पैन कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट आदि।
जमाकर्ता के पते का प्रमाणपत्र जैसे पासपोर्ट, राशन कार्ड, बिजली बिल, टेलीफोल बिल, पानी का बिल आदि।
सुकन्‍या समृद्धि योजना का फॉर्म आप पोस्‍ट ऑफिस या किसी भी बैंक से प्राप्‍त कर सकते हैं या फिर  https://rbidocs.rbi.org.in/rdocs/content/pdfs/494SSAC110315_A3.pdf यहां से डाउनलोड कर सकते हैं।
खाता खुल जाने पर जिस पोस्‍ट ऑफिस या बैंक में आपने खाता खुलवाया है वह आपको एक पासबुक दी जाएगी।
पैसे जमा करने के लिए आप नेटबैंकिंग का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं।

सुकन्‍या समृद्धि खाते के फायदे को समझें

यदि 2015 में कोई व्यक्ति 1,000 रुपए महीने से अकाउंट खोलता है तो उसे 14 साल तक यानी 2028 तक हर साल 12 हजार रुपए डालने होंगे। मौजूदा हिसाब से उसे हर साल 9.1 फीसदी ब्याज मिलता रहेगा तो जब बच्ची 21 साल की होगी तो उसे 6,07,128 रुपए मिलेंगे। यहां आपको बता दें कि 14 सालों में इस व्यक्ति को अकाउंट में कुल 1.68 लाख रुपए ही जमा करने पड़े। इसके अलावा बाकी के 4,39,128 रुपए ब्याज के हैं।


सुनील कुमार

Back to top