माँ अन्नपूर्णा जी की आरती हिंदी और इंग्लिश मे {2020}


पूजा  के अंत में हम सभी देवी – देवताओं की आरती करते हैं। आरती पूजन के अन्त में हम इष्टदेवी ,इष्टदेवता की प्रसन्नता के हेतु की जाती है। इसमें इष्टदेव को दीपक दिखाने के साथ उनका स्तवन तथा गुणगान किया जाता है। यह देवी – देवताओं  के गुणों की प्रशंसा गीत है। आरती आम तौर पर एक पूजा या भजन सत्र के अंत  में किया जाता है। यह पूजा समारोह के एक भाग के रूप में गाया जाता है।

देवी अन्नपूर्णा हिन्दू धर्म की देवी हैं। देवी अन्नपूर्णा धन, वैभव और सुख-शांति की अधिष्ठात्री देवी कहलाएं जाती है। इन्हें “अन्न की पूर्ति“ करने वाली देवी माना जाता है। मान्यता है कि देवी अन्नपूर्णा भक्तों की भूख शांत करती हैं तथा जो इनकी आराधना करता है उसके घर में कभी भी अनाज की कमी नहीं होती है। आज हम आपके साथ देवी अन्नपूर्णा जी की आरती हिन्दी तथा इंग्लिश मे साझा कर रहे है आप अपने सुविधा अनुसार कोई भी माध्यम चुन सकतें है|

देवी अन्नपूर्णा जी की आरती  (Deity Annapoorna Aarti in Hindi)

बारम्बार प्रणाम, मैया बारम्बार प्रणाम…

जो नहीं ध्यावे तुम्हें अम्बिके, कहां उसे विश्राम।
अन्नपूर्णा देवी नाम तिहारो, लेत होत सब काम॥ बारम्बार…

प्रलय युगान्तर और जन्मान्तर, कालान्तर तक नाम।
सुर सुरों की रचना करती, कहाँ कृष्ण कहाँ राम॥ बारम्बार…

चूमहि चरण चतुर चतुरानन, चारु चक्रधर श्याम।
चंद्रचूड़ चन्द्रानन चाकर, शोभा लखहि ललाम॥ बारम्बार…

देवि देव! दयनीय दशा में दया-दया तब नाम।
त्राहि-त्राहि शरणागत वत्सल शरण रूप तब धाम॥ बारम्बार…

श्रीं, ह्रीं श्रद्धा श्री ऐ विद्या श्री क्लीं कमला काम।
कांति, भ्रांतिमयी, कांति शांतिमयी, वर दे तू निष्काम॥ बारम्बार

Deity Annapoorna Aarti in English 

Barambar Pranam Maiya Bamambar Pranam l

Jo Nahin Dhayavai Tumehen Abike, Kahan Usse Vishram l
Annapoorna Devi Naam Tiharo, Lete Hot Dab Kaam l
Pralay Yugantar Aur Janmantar,Kalantar Tak Naam l
Sur Suron Ki Rachna Karti, Kahan Krishna Kahan Ram l

Chumahi Charan Chatur Chaturanan, Charu Chakradhar Shyam l
Chandra Choor Chandranan Chakar, Shobha Lakhhi Lalaam l

Devi Dev Dayniya Dasha Mein, Daya Daya Tav Jama l
Trahi-Trahi Sharanagat Vatsal, Sharan Roop Tav Dham l

Shree Hreem Shradha Shree Ean Vidhiya, Shree Klim Kamal Kaam l
Kantibhrantimai Kanti Shanti Sayovar Detu Nishkaam l

कैसे करें देवी अन्नपूर्णा की सच्ची आरती ?

यह बात तो सब जानते ही है की संसार पंच महाभूतों—पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश से बना है। आरती में ये पांच वस्तुएं (पंच महाभूत) रहते है—

  1. पृथ्वी की सुगंध—कपूर
  2. जल की मधुर धारा—घी
  3. अग्नि—दीपक की लौ
  4. वायु—लौ का हिलना
  5. आकाश—घण्टा, घण्टी, शंख, मृदंग आदि की ध्वनि

इस प्रकार सम्पूर्ण संसार से ही भगवान की आरती होती है।

मानव शरीर से भी कर सकतें है सच्ची आरती

मानव शरीर भी पंचमहाभूतों से बना है । मनुष्य अपने शरीर से भी ईश्वर की आरती कर सकता है ।

जाने कैसे ?

अपने देह का दीपक, जीवन का घी, प्राण की बाती, और आत्मा की लौ सजाकर भगवान के इशारे पर नाचना—यही सच्ची आरती है। इस तरह की सच्ची आरती करने पर संसार का बंधन छूट जाता है और जीव को भगवान के दर्शन होने लगते हैं।


सुनील कुमार

Back to top