काली माता जी की आरती हिंदी और इंग्लिश मे {2020}


पूजा  के अंत में हम सभी देवी – देवताओं की आरती करते हैं। आरती पूजन के अन्त में हम इष्टदेवी ,इष्टदेवता की प्रसन्नता के हेतु की जाती है। इसमें इष्टदेव को दीपक दिखाने के साथ उनका स्तवन तथा गुणगान किया जाता है। यह देवी – देवताओं  के गुणों की प्रशंसा गीत है। आरती आम तौर पर एक पूजा या भजन सत्र के अंत  में किया जाता है। यह पूजा समारोह के एक भाग के रूप में गाया जाता है।

हिंदू मान्यतानुसार काली जी का जन्म राक्षसों के विनाश के लिए हुआ था। आदि शक्ति भगवती का रूप माने जाने वाली काली माता को बल और शक्ति की देवी माना जाता है। आज हम आपके साथ माँ काली जी की आरती हिन्दी तथा इंग्लिश मे साझा कर रहे है आप अपने सुविधा अनुसार कोई भी माध्यम चुन सकतें है|

काली माता जी की आरती (1) (Kali Mata Ji Ki Aarti in Hindi)

मंगल की सेवा सुन मेरी देवा ,हाथ जोड तेरे द्वार खडे।
पान सुपारी ध्वजा नारियल ले ज्वाला तेरी भेट धरेसुन।।1।।

जगदम्बे न कर विलम्बे, संतन के भडांर भरे।
सन्तन प्रतिपाली सदा खुशहाली, जै काली कल्याण करे ।।2।।

बुद्धि विधाता तू जग माता ,मेरा कारज सिद्व रे।
चरण कमल का लिया आसरा शरण तुम्हारी आन पडे।।3।।

जब जब भीड पडी भक्तन पर, तब तब आप सहाय करे।
गुरु के वार सकल जग मोहयो, तरूणी रूप अनूप धरेमाता।।4।।

होकर पुत्र खिलावे, कही भार्या भोग करेशुक्र सुखदाई सदा।
सहाई संत खडे जयकार करे ।।5।।

ब्रह्मा विष्णु महेश फल लिये भेट तेरे द्वार खडेअटल सिहांसन।
बैठी मेरी माता, सिर सोने का छत्र फिरेवार शनिचर।।6।।

कुकम बरणो, जब लकड पर हुकुम करे ।
खड्ग खप्पर त्रिशुल हाथ लिये, रक्त बीज को भस्म करे।।7।।

शुम्भ निशुम्भ को क्षण मे मारे ,महिषासुर को पकड दले ।
आदित वारी आदि भवानी ,जन अपने को कष्ट हरे ।।8।।

कुपित होकर दनव मारे, चण्डमुण्ड सब चूर करे।
जब तुम देखी दया रूप हो, पल मे सकंट दूर करे।।9।।

सौम्य स्वभाव धरयो मेरी माता ,जन की अर्ज कबूल करे ।
सात बार की महिमा बरनी, सब गुण कौन बखान करे।।10

सिंह पीठ पर चढी भवानी, अटल भवन मे राज्य करे।
दर्शन पावे मंगल गावे ,सिद्ध साधक तेरी भेट धरे ।।11।।

ब्रह्मा वेद पढे तेरे द्वारे, शिव शंकर हरी ध्यान धरे।
इन्द्र कृष्ण तेरी करे आरती, चॅवर कुबेर डुलाय रहे।।12।।

जय जननी जय मातु भवानी , अटल भवन मे राज्य करे।
सन्तन प्रतिपाली सदा खुशहाली, मैया जै काली कल्याण करे।।13।।

Deity Kali Mata Aarti in English (1)

Mangal ki seva sunn meri deva haanth jod tere dwaar khade,
Paan, supari, dhwjaa naariyal, le jwala tere bhet dhare

Sunn Jagdambe kar naa vilambe, santan ka bhndaar bhare,
Santan pratipaali sada kushali, jai kaali kalyaan kare,

Buddhi vidhata tu jagmaata, mera kaaraj siddh kare,
Charan kamal ka liya aasra, sharan tumhaari aan pade,

Jab- jab bhir padi bhagatan par, tab- tab aaye sahaye kare,
Santan pratipaali sada kushali maiyaa, jai kaali kalyaan kare,

Chir waar the sab jag mohyo, tarano roop anup dhare,
Maata hokar putra khilawe, Maata hokar putra khilawe,
kayi bhaarya bhog bhare,
Thaari mahima kab lakh barti, koti- koti kalyaan kare,
Santan pratipaali sada kushali maiyaa, jai kaali kalyaan kare,

Santan sukhdayi sada sahayi, sant khade jai- jai kaar kare,
Brahma, Mahesh sahastra fal liye, Brahma, Mahesh sahastra fal liye,
Bhet ko tere dwaar khade,
Atal singhashan baithi maata, sir sone ka chatar dhare,
Santan pratipaali sada kushali maiyaa, jai kaali kalyaan kare

Waar sanichar kum- kum varani, jab lukand par hukum kare,
Khadag khappr trishul haanth liye, khadag khappr trishul haanth liye,
Raktbij ko bhasam kare,
Sumbh- nisumbh ko chan mei mare, Mahishasur ko pakad dale,
Santan pratipaali sada kushali maiyaa, jai kaali kalyaan kare,

Aaditwar aadi ko veera, jan apne ko kasht hare,
Kop hoyekar daanav maare, kop hoyekar daanav mare,
Chand- mund sab chur kare,
Jab tum dekho daya roop ho, pal mei sankat dur kare,
Santan pratipaali sada kushali maiyaa, jai kaali kalyaan kare,

Saumya swabhaav ghar yo maata, jinki araj Kabul kare,
Singh pith par chadhi bhawaani, Singh pith par chadhi bhawaani,
Atal bhawan mei raaj kare,
Darshan paawe mangal gaawe, siddhi saadhu tera bhet dhare,
Santan pratipaali sada kushali maiyaa, jai kaali kalyaan kare,

Brahma ved pade tere dwaare, Shiv Shankar ji dhyan dhare,
Indra, Krishna teri kare aarti, Indra, Krishna teri kare aarti,
Charan Kuber dulaye rahe,
Jai janani jai maatu bhawaani, atal bhawan mei raaj kare,
Santan pratipaali sada kushali maiyaa, jai kaali kalyaan kare,

काली माता जी की आरती (2) (Kali Mata Ji Ki Aarti in Hindi)

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली |
तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारें तेरी आरती ||
तेरे भक्त जनों पे माता, भीर पड़ी है भारी |
दानव दल पर टूट पडो माँ, करके सिंह सवारी ||
सौ सौ सिंहों से तु बलशाली, दस भुजाओं वाली |
दुखिंयों के दुखडें निवारती, ओ मैया हम सब उतारें तेरी आरती ||
माँ बेटे का है इस जग में, बड़ा ही निर्मल नाता |
पूत कपूत सूने हैं पर, माता ना सुनी कुमाता ||
सब पर करुणा दरसाने वाली, अमृत बरसाने वाली ||
दुखियों के दुखडे निवारती, ओ मैया हम सब उतारें तेरी आरती ||
नहीं मांगते धन और दौलत, न चाँदी न सोना |
हम तो मांगे माँ तेरे मन में, इक छोटा सा कोना ||
सबकी बिगडी बनाने वाली, लाज बचाने वाली |
सतियों के सत को संवारती, ओ मैया हम सब उतारें तेरी आरती ||
अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली |
तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारें तेरी आरती ||

Deity Kali Mata Aarti in English (2)

Ambe Tu Hai Jagdambe Kali
Jai Durge Khappar Wali
Tere Hi Gun Gaaye Bharati

!! O Maiya, Hum Sab Utarey Teri Aarti !!

Tere Jagat Ke Bhakt Janan Par Bhid Padi Hai Bhari Maa
Daanav Dal Par Toot Pado Maa Karke Singh Sawari
So So Singho Se Tu Bal Shali
Asth Bhujao Wali, Dushton Ko Pal Mein Sangharti

!! O Maiya, Hum Sab Utarey Teri Aarti !!

Maa Bete Ka Hai Ish Jag Mein Bada Hi Nirmal Nata
Poot Kaput Sune Hai Par Na Mata Suni Kumata
Sab Par Karuna Darshaney Wali, Amrut Barsaney Wali
Dukhiyon Ke Dukhdae Nivarti

!! O Maiya, Hum Sab Utarey Teri Aarti !!

Nahi Maangtey Dhan Aur Daulat Na Chaandi Na Sona Maa
Hum To Maangey Maa Tere Man Mein Ek Chota Sa Kona
Sab Ki Bigdi Banane Wali, Laaj Bachane Wali
Satiyo Ke Sat Ko Sanvarti

!! O Maiya, Hum Sab Utarey Teri Aarti !!

कैसे करें माँ की सच्ची आरती ?

यह बात तो सब जानते ही है की संसार पंच महाभूतों—पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश से बना है। आरती में ये पांच वस्तुएं (पंच महाभूत) रहते है—

  1. पृथ्वी की सुगंध—कपूर
  2. जल की मधुर धारा—घी
  3. अग्नि—दीपक की लौ
  4. वायु—लौ का हिलना
  5. आकाश—घण्टा, घण्टी, शंख, मृदंग आदि की ध्वनि

इस प्रकार सम्पूर्ण संसार से ही भगवान की आरती होती है।

मानव शरीर से भी कर सकतें है सच्ची आरती

मानव शरीर भी पंचमहाभूतों से बना है । मनुष्य अपने शरीर से भी ईश्वर की आरती कर सकता है ।

जाने कैसे ?

अपने देह का दीपक, जीवन का घी, प्राण की बाती, और आत्मा की लौ सजाकर भगवान के इशारे पर नाचना—यही सच्ची आरती है। इस तरह की सच्ची आरती करने पर संसार का बंधन छूट जाता है और जीव को भगवान के दर्शन होने लगते हैं।


सुनील कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top