नपुंसकता के कारण, लक्षण और इसका उपचार


व्यस्त जीवनशैली, ग़लत खानपान, शरीर में पोषक तत्वों की कमी और बचपन की ग़लत आदतों के कारण पुरुषों में मर्दाना कमज़ोरी होना एक आम तकलीफ़ है। नपुसंकता यानि Impotence एक ऐसी सेक्शुअल प्रॉब्लम है जिसके कारण पुरुष को अपनी महिला पार्टनर के साथ शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है। इस बीमारी के कारण व्यक्ति महिला साथी से दूर रहने लगता है और दामपत्य जीवन का आनंद नहीं ले पाता है। सेक्स लाइफ़ में इस अधूरेपन के कारण मनमुटाव और तलाक़ तक की नौबत आ जाती है। आइए नपुंसकता के कारण और उपचार की विधियाँ जानते हैं।

नपुंसकता या नामर्दी के कारण Due to impotence, symptoms and its treatment

वैसे तो नपुंसकता के बहुत सारे कारण होते हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं|

1. बचपन में की गयी गलतियों के कारण पुरुष नपुंसक हो जाता है।

2. लम्बे समय से लगातार बार बार हस्त्मेथुन करने से व्यक्ति की सम्भोग शक्ति ख़त्म हो जाती है।

3. नपुंसक व्यक्ति अपनी पत्नी को सम्भोग क्रिया में भरपूर आनंद नहीं दे पाता जिससे दोनों के बीच हमेशा विवाद बना रहता है और कभी कभी तो रिलेशन ही ख़त्म हो जाते हैं।

4. यदि बचपन के समय में कोई गहरा आघात हुआ हो तो आदमी नपुंसक हो सकता है।

5. यदि कोई व्यक्ति वैश्याओं के सम्पर्क में लगातार लम्बे समय तक रहता है, तो नामर्दानिगी के साथ साथ अन्य प्रकार के संक्रमण भी हो सकता है।

6. यदि किसी पुरुष के शरीर में लम्बे समय से कोई बड़ी बीमारी होती है जैसे टीबी, मधुमेह, ह्रदय रोग इत्यादि से भी व्यक्ति की पौरुष शक्ति कमजोर होती जाती है।

7. नशीले पदार्थ जैसे शराब, बीड़ी, गुटखा, सिगरेट इत्यादि को लम्बे समय तक सेवन करने से नामर्दी का शिकार हो सकता है।

8. अत्यधिक मोटापा, स्वप्न दोष, लिंग का ज्यादा छोटा होना इनके के कारण व्यक्ति नपुंसकता का शिकार हो जाता है।

9. लिंग या गुप्तांग में चोट लगने से भी आदमी के अन्दर सम्भोग करने की क्षमता धीरे धीरे कम होती जाती है और कुछ समय बाद आदमी नामर्द हो जाता है।

10. यदि कोई व्यक्ति लम्बे समय से tension या मानसिक परेसानी से ग्रसित है तो वो आने वाले समय में नपुंसकता का कारण हो सकता है।
कुछ व्यक्ति जन्म से ही नामर्द होते हैं।

Also Read This: अगर आपको बाप बनना हे तो भूल कर भी न करें ये 10 काम

नपुंसकता या नामर्दी के लक्षण

1. यदि किसी व्यक्ति के लिंग में यौन सम्बन्ध के समय सही से कड़ापन या कठोरपन नहीं आता और यदि वो लापरवाही करता रहा तो वो बहुत जल्द आगे चलकर नामर्द बन सकता है।

2. लिंग में तनाव तो रहना लेकिन पत्नी के पास जाने पर लिंग का ढीला पड़ जाना भी यौन कमजोरी का बहुत बड़ा लक्षण होता है।

3. इस तरह का व्यक्ति अपनी पत्नी के साथ सहवास करने से बचने की कोशिश करता रहता है। स्त्री के सहवास के लिए दवाव देने पर भी वो वो कुछ नहीं करता है।

4. सहवास start करते ही उसकी साँस फूलने लगती है और शरीर से पसीना निकलने लगता है। उसमें आत्मविश्वाश बिल्कुल नहीं बचता, इस तरह की बात भी सुनकर उसका दिल घबराने लगता है।

5. ऐसे पुरुष का किसी भी काम में मन नहीं लगता है उसे हमेशा चिंता लगी रहती है।

6. ऐसा आदमी अकेले रहना ज्यादा पसंद करता है, उसे नींद भी ठीक से नहीं आती, बदन दर्द और सिर दर्द की समस्या हमेशा बनी रहती है।

7. ऐसा व्यक्ति बहुत ज्यादा गुस्सा करने लगते हैं ऐसा लगता है जैसे वो हमेशा गुस्से से भरा हुआ रहता हो।

8. जब वह अपनी पत्नी को तृप्त नहीं कर पाता या उसकी प्यास ठीक से नहीं बुझा पाता तो उसे खुद पर शर्म आने लगती है।

9. नपुंसकता वाले मरीज को हमेशा कब्ज की सिकायत रहती है वो जो भी खाता है पचता नहीं है।

10. ऐसे लोगों में स्वप्नदोष एवं शीघ्रपतन की समस्या बहुत देखने को मिलती है।

11. ऐसे व्यक्ति का लिंग टेढ़ा, पतला और ढीला पड़ जाता है और लिंग पर नसें उभर आती हैं।

12. ऐसे पुरुष का लिंग छोटा एवं पतला हो जाता है।

13. कुछ लोगों के अंडकोष छोटे और शिथिल पड़ जाते हैं।

14. यदि किसी व्यक्ति का वीर्य पानी की तरह पतला हो जाये तो यह उसके नपुंसक होने की तरफ इशारा करता है।

15. मूत्र विसर्जन करते समय मूत्र के साथ साथ धातु का निकलना नपुंसकता का लक्षण होता है।

16. वीर्य में शुक्राणुओं (Sperm) की पर्याप्त मात्रा ना होना।

नपुसंकता या नामर्दी का इलाज

1. शतावरी घृत की 5 ग्राम मात्रा में मिश्री मिलाकर सेवन करने के बाद एक गिलास दूध पीने से शुक्राणुओं की मात्रा बढ़ जाती है और नपुंसकता से छुटकारा मिल जाता है।

2. कौंच के बीजों के चूर्ण और गोखरू का चूर्ण बराबर मात्रा में लेकर उसमें थोड़ी मिश्री मिला लीजिये और एक चम्मच सोने से पहले दूध के साथ सेवन करने से व्यक्ति के शरीर में वीर्य बढ़ने लगता है।

3. 20 ग्राम बादामपाक सुबह शाम दूध के साथ लेने से वीर्य में आश्चर्यजनक बढ़ोतरी होती है जिससे पुरुष की नपुंसकता नस्ट हो जाती है।

4. काली माका में वीर्य को गाढ़ा करने वाले गुण पाए जाते हैं| यह हर्ब शुक्राणु की संख्या, गतिशीलता और उनकी क्वालिटी सुधरने में काफी असरदार मानी जाती है| यह मर्दाना शक्ति और स्टैमिना बढाती है|

5. 10 से 20 ग्राम च्यवनप्राश रोज सुबह शाम खाना खाने के बाद सेवन करने से शारीरिक शक्ति और वीर्य की मात्रा बढ़ जाती है।

6. तालमखाना, शतावरी और गोखरू को बराबर मात्रा में पीसकर चूर्ण बना लीजिये और रोज सुबह शाम दूध के साथ 5 ग्राम चूर्ण सेवन कीजिये, इससे शुक्राणुओं की मात्रा बढ़ जाती है और नपुंसकता दूर हो जाती है।

7. 200 मिली ग्राम की मात्रा में लौह भष्म गाय के दूध के साथ प्रतिदिन सुबह शाम सेवन करने से शारीरिक शक्ति का विकास होता है और नामर्दानगी की समस्या से भी छुटकारा मिल जाता है।

8. गोखरू यह भारत में भी आसानी से मिल जाती है| इसमें पाए जाने वाले गुण आपके वीर्य को गाढ़ा करने में मदद करते हैं| इतना ही नहीं यह हर्ब वीर्य में शुक्राणु बढाती है, शुक्राणुओं की गतिशीलता बढाती है और शुक्राणु के जीवन को भी बढाती है|

नपुंसकता या नामर्दी के मरीज के लिए परहेज और खान पान

Ξ जो व्यक्ति बहुत समय तक किसी बीमारी से पीड़ित रहते हैं उनको शारीरिक कमजोरी के साथ साथ वीर्य में पतलापन होने के कारण मर्दाना कमजोरी महशूश करते हैं ऐसे लोगों को कुछ महीने के लिए सहवास करना बंद करके पौष्टिक खाना जैसे जूस, दूध, घी, मख्खन, सूखा मेवा और फलों का सेवन ज्यादा करना चाहिए।

Ξ दूध में छुहारे डालकर बढ़िया उबालने के बाद पीने से यौन दुर्बलता दूर हो जाती है। यदि खजूर खाने के साथ दूध का सेवन करते हैं तो वीर्य में गाढ़ापन बढ़ता है।

Ξ नपुंसकता के रोगी को प्रतिदिन हल्के व्यायाम करना बहुत जरुरी होता है। यदि व्यायाम नहीं कर सकते तो रोज सुबह के समय एक किलोमीटर टहलना चाहिए।

Ξ नपुंसकता के मरीज को ज्यादा तेल युक्त खाना बिल्कुल नहीं खाना चाहिए, मतलब तेल, मिठाई, ज्यादा मिर्ची वाला भोजन के सेवन से बचना चाहिए। और साथ ही नशीली चीजों से भी दूर रहना चाहिए।

हम उम्मीद करते है, कि आप सभी ने हमारे लिखी हुई पोस्ट पूरे ध्यान से और पूरी पढ़ी होगी, अगर नहीं पढ़ी हो तो एक बार पहले पोस्ट पढ़ें, और अगर फिर आपको कहीं लगे कि यह बात ऐसे नहीं ऐसे होनी चाहिए थी, या आपको कुछ और उपाय पता है तो कृपया कमेंट के माध्यम से हमें बताएं जिससे किसी जरूरत मन्द का भला हो सके धन्यवाद।


सुनील कुमार

Back to top