गैस सिलेण्डर की भी एक्सपायरी डेट होती है


हम सबके घर में जितना जरूरी दाल चावल और आटा है उतना ही जरूरी एलपीजी गैस सिलेंडर भी है लेकिन क्या आप गैस सिलेंडर खत्म होने के बाद जब अपना नया गैस सिलेंडर घर मंगाते है तो उसकी एक्सपायरी डेट चेक करते हैं. अगर नहीं तो हम आपको बतातें है की आप कैसे अपने एलपीजी गैस सिलेंडर की एक्सपायरी डेट चेक कर सकते है|

एक्सपायरी डेट के एलपीजी गैस सिलेंडर से नुकसान

L.P.G.गैस सिलेण्डर की भी “एक्सपायरी डेट” होती है।
एक्सपायरी डेट निकलने के बाद गैस सिलेण्डर को इस्तेमाल करना बम की तरह खरतनाक हो सकता है।
आमतौर पर गैस सिलेण्डर की रिफील लेते समय उपभोक्ताओं का ध्यान इसके वजन और सील पर ही होता है।
उन्हें सिलेण्डर की एक्सपायरी डेट की जानकारी ही नहीं होती।
इसी का फायदा एलपीजी की आपूर्ति करने वाली कंपनियां उठाती हैं और धड़ल्ले से एक्पायरी डेट वाले सिलेण्डर रिफील कर हमारे घरों तक पहुंचाती हैं।
यहीं कारण है कि गैस सिलेण्डरों से हादसे होते हैं।

कैसे पता करें एक्सपायरी डेट

सिलेण्डर के उपरी भाग पर उसे पकड़ने के लिए गोल रिंग होती है और इसके नीचे तीन पट्टियों में से एक पर काले रंग से सिलेण्डर की एक्सपायरी डेट अंकित होती है। इसके तहत अंग्रेजी में A, B, C तथा D अक्षर अंकित होते है तथा साथ में दो अंक लिखे होते हैं।

  • A अक्षर साल की पहली तिमाही (जनवरी से मार्च)
  • B साल की दूसरी तिमाही (अप्रेल से जून)
  • C साल की तीसरी तिमाही (जुलाई से सितम्बर)
  • D साल की चौथी तिमाही अर्थात अक्टूबर से दिसंबर को दर्शाते हैं।
  • इसके बाद लिखे हुए दो अंक एक्सपायरी वर्ष को संकेत करते हैं।
  • जैसे A-11 का मतलब है सिलेंडर की अगली टेस्टिंग की तारीख जनवरी से मार्च 2013 है.
  • B-16 का मतलब है सिलेंडर की जांच अप्रैल से लेकर जून के बीच होनी है.

एक्सपायरी डेट के बाद सिलेंडर को इस्तेमाल करने से ये बम की तरह फट सकता है इसलिए एक्सपायरी डेट के बाद वाले सिलेंडर नहीं लेने चाहिए. लेकिन इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के मुताबिक ये सारे दावे झूठे और निराधार हैं. इनका कोई भी वैज्ञानिक आधार नहीं है.

एलपीजी सिलेंडर की हर तीन महीने के भीतर जांच होती है. सिलेंडर पर दिखने वाली ये तारीख बताती है कि सिलेंडर अगली बार कब जांचा जाएगा. जांच में सिलेंडर सही नहीं पाया गया तो उसे नष्ट कर दिया जाता है.


सुनील कुमार

Back to top