गोवा की अनुसूचित जनजातियां


जाति व्यक्ति का जिस समाज में जन्म हुआ हो उसे कहते हैं। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, तेली, लोहार, कुर्मी. धोबी आदि कुछ भारतीय हिन्दू जातियाँ हैं। वैदिक समाज को श्रम विभाजन के निमित्त चार वर्णों में विभक्त किया गया था। ये चार वर्ण हैं : ब्राह्मण ,क्षत्रिय ,वैश्य एवं शूद्र। किन्तु कालान्तर में इससे लाखों जातियाँ बन गयीं। जाति के आधार पर किसी प्रकार का भेदभाव या पक्षपात करना जातिवाद कहलाता है।

आज हम आपको भारत में स्थित (Goa) गोवा की अनुसूचित जनजाति के बारे में बताने जा रहे है. अनुसूचित जनजाति शब्द सबसे पहले भारत के संविधान में इस्तेमाल हुआ था। अनुच्छेद 366 (25) में अनुसूचित जनजातियों को ऐसी जनजातियां या जनजाति समुदाय या इनमें सम्मिलित जनजाति समुदाय के भाग या समूहों को संविधान के प्रयोजनों हेतु अनुच्छेद 342 के अधीन अनुसूचित जनजातियां माना गया है|Goa Scheduled Tribes

गोवा अनुसूचित जनजाति सूची

S.No. Scheduled Castes
1 Dhodia
2 Dubla
3 Naikda
4 Siddi
5 Varli

उत्तर प्रदेश की अनुसूचित जनजातियां
उत्तराखंड की अनुसूचित जनजातियां
त्रिपुरा की अनुसूचित जनजातियां
तमिलनाडु की अनुसूचित जनजातियां
सिक्किम की अनुसूचित जनजातियां
राजस्थान की अनुसूचित जनजातियां
पंजाब की अनुसूचित जनजातियां
ओडिशा की अनुसूचित जनजातियां
नागालैंड की अनुसूचित जनजातियां
मिजोरम की अनुसूचित जनजातियां
मेघालय की अनुसूचित जनजातियां
मणिपुर की अनुसूचित जनजातियां
महाराष्ट्र की अनुसूचित जनजातियां
मध्य प्रदेश की अनुसूचित जनजातियां
केरला की अनुसूचित जनजातियां
कर्नाटक की अनुसूचित जनजातियां
झारखण्ड की अनुसूचित जनजातियां
जम्मू और कश्मीर की अनुसूचित जनजातियां
हिमाचल प्रदेश की अनुसूचित जनजातियां
गुजरात की अनुसूचित जनजातियां
दमन और दिउ की अनुसूचित जनजातियां
दादर और नगर हवेली की अनुसूचित जनजातियां
छत्तीसगढ़ की अनुसूचित जनजातियां
बिहार की अनुसूचित जनजातियां
असम की अनुसूचित जनजातियां
अरुणाचल प्रदेश की अनुसूचित जनजातियां
आंध्रप्रदेश की अनुसूचित जनजातियां
अंडमान और निकोबार जनजातियां

हम उम्मीद करते है, कि आप सभी ने हमारे लिखी हुई पोस्ट पूरे ध्यान से और पूरी पढ़ी होगी, अगर नहीं पढ़ी हो तो एक बार पहले पोस्ट पढ़ें, और अगर फिर आपको कहीं लगे कि इस जगह की यह जाति इस लेख में नहीं बताई गई है या कोई जाति गलत बताई गई है तो कृपया कमेंट के माध्यम से हमें बताएं धन्यवाद।


सुनील कुमार

Back to top