नागालैंड राज्य के बारे में कुछ जरुरी जानकारी


नागालैण्ड भारत का एक उत्तर पूर्वी राज्य है। इसकी राजधानी कोहिमा है। नागालैण्ड की सीमा पश्चिम में असम से पूर्व मे बर्मा से और दक्षिण मे मणिपुर से मिलती है। सबसे बड़ा शहर दीमापुर है। नागालैण्ड में सबसे उँची चोटी माउंट सरामति है जिसकी समुंद्र तल से उँचाई 3840मी है। नागालैण्ड की स्थापना 1 दिसम्बर 1963 को भारत के 16वें राज्य के रूप मे हुई थी।

नागालैंड राज्य के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

नागालैंड राज्य में 11 जिले हैं

कैफाइर जिला, कोहिमा जिला, ज़ुन्हेबोटो जिला, दीमापुर जिला, ट्वेनसांग जिला, पेरेन जिला, फेक जिला, मोकोक्चुन्ग जिला, मोन जिला, लॉन्गलेन्ग जिला, वोखा जिला

नागलेंड मे 16 जनजातियाँ पाई जाती है

अंगामी, आओ, चख़ेसंग, चांग, दिमासा कचारी, खियमनिंगान, कोनयाक, लोथा, फोम, पोचुरी, रेंगमा, संगतम, सूमी, इंचुंगेर, कुकी और ज़ेलियांग।some interesting facts about nagaland

नागलेंड राज्य से जुडी कुछ रोचक बातें

1. नागालैंड की राजकीय भाषा अंग्रेजी है|

2. नागालैंड राज्य का राजकीय वृक्ष एल्डर है।

3. नागालैंड राज्य का राजकीय पशु मिथुन है।

4. नागालैंड राज्य का राजकीय फूल फोडोडेन्ड्रान है।

5. नागालैंड राज्य का राजकीय पक्षी ब्लाइथ्स ट्रेगोपन है।

6. नागालैंड राज्य में सडकों की कुल लंबाई 9860 किमी है।

7. नागालैंड राज्य में पौधों और जानवरों की कई प्रजातियां भी हैं|

8. नागालैंड राज्य की प्रमुख फसलें चावल, गेहू, मक्का, दालें आदि हैं।

9. इसके इलाके पहाड़ी, घने जंगली और नदी की गहरी घाटियों से कटे हुए हैं।

10. नागालैंड के कोहिमा के पास खोनमा गांब में आज भी महाभारत युग के खंडहर मिलते है।

11. यहां की कुल जनसंख्या 19 लाख है जोकि देश के अन्य राज्यों की तुलना में बहुत कम है।

12. आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत के पूरब में बसे नागालैंड में बहुत से लोग किसी भाषा में या बोलकर बात नहीं करते हैं।

13. धर्म की बात करें तो यहां के 80 फीसदी लोग इसाई धर्म का पालन करते हैं, जबकि हिन्दू 8.50 फीसदी और मुस्लिम केवल 2.50 फीसदी ही हैं।

14. यहां सौ से अधिक जनजाति निवास करती हैं। वास्तव में यहां हर जनजाति की अपनी अलग-अलग भाषाएं होती हैं, यही कारण है कि इस राज्य में कोई एक भाषा नहीं बोलता है। यहां पर सबसे ज्यादा बोले जाने वाली भाषा ‘आओ’ है, जिसमें केवल 12 फीसदी लोग ही बात करते हैं।

15. नागालैंड की जलवायु मानसूनी और सामान्य तौर पर बहुत नमी वाली है। यहां बारिश का सालाना औसत 1800 से 2500 मिमी. यानि 70-100 इंच रहता है।

16. नागालैंड राज्य की प्रमुख नदियां दंगसिरी, दोयांग, दिखू, बराक हैं।

17. यहां के अधिकतर लोग अपने पैरों में कड़ा पहनते हैं। ऐसा माना जाता है कि इससे उन्हें पेड़ों पर चढ़ने में आसानी होती है। यहां की संस्कृति के अनुसार अधिकतर लोग रंग-बिरंगी चादर भी पहनते हैं।

18. इसके सीमाओं पर पश्चिम और उत्तर में असम, पूर्व में म्यांमार जिसका पूर्व नाम बर्मा था, उत्तर में अरुणाचल प्रदेश और दक्षिण में मणिपुर स्थित है।

19. सन् 1890 तक नागालैंड में ब्रिटिश शासन स्थापित हो गया था और पारंपरिक प्रथा हैडहंटिंग को गैरकानूनी घोषित कर दिया गया था।

20. वास्तव में यहां कि कुछ जनजाति नरभक्षी भी हैं। इस राज्य के लोगों के बारे में सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि वे कुत्ते का मांस भी खाते हैं। बेशक यह बात आपको परेशान कर सकती है लेकिन यहां के लोग बड़े शौक से कुत्ते के मांस का आनंद लेते हैं। वास्तव में कुत्ते के मांस खाना सदियों से चली आ रही प्रथा का हिस्सा माना जाता है।

21. सन् 1947 में भारत की आजादी के बाद से नागा क्षेत्र असम और नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी के बीच विभाजित रहा। सभी नागा जनजातियों की एक राजनीतिक यूनियन की जोरदार वकालत के बाद भी एक गुट भारत से अलगाव की मांग करता रहा।

22. आप रात में सपना देखकर भूल जाते होंगे लेकिन यहां की कुछ जनजाति के लोग सपनों को बहुत ज्यादा महत्त्व देते हैं। यह लोग सपनों के जरिए हकीकत में देखने की कोशिश करते हैं।

23. सन् 1957 में कुछ हिंसक घटनाओं के बाद भारत सरकार ने भारतीय शासन के तहत एक नागा प्रशासनिक इकाई स्थापित की। नागा लोगों ने तोड़फोड़ का अभियान चलाकर और करों का भुगतान रोक कर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की।

24. अगर आप ऐसा सोचते हैं कि इस राज्य के लोग बहुत पिछड़े हुए हैं और यहां शिक्षा का कोई महत्व नहीं है, तो आप बिल्कुल गलत है। आपको बता दें कि यहां शिक्षा का प्रतिशत पहले की तुलना में काफी बढ़ा है। यहां शिक्षा का प्रतिशत 80 से बढ़कर 85 हो गया है, जोकि देश के अन्य राज्यों की तुलना में काफी ज्यादा है।

25. सन् 1960 में भारत सरकार ने नागालैंड को एक स्वशासित राज्य बनाने की मंजूरी दी और सन् 1963 में नागालैंड आधिकारिक तौर पर राज्य घोषित किया गया।

26. आज जो क्षेत्र नागालैंड है उसके शुरुआती इतिहास के बारे में बहुत कम ही जानकारी है, साथ ही दीमापुर में कई बड़े रेतीले पत्थरों वाले खंभों की उत्पत्ति के बारे में भी ज्यादा जानकारी नहीं है|

27. नागालैंड के 80 फीसदी लोग कृषि से जुड़े हुए हैं और सबसे मजे की बात यह है कि इतने बड़े स्तर पर कृषि से जुड़े होने के बावजूद यहां के अधिकतर लोगों को सब्जियां खाना पसंद नहीं है।

28. बेशक बिहार राज्य में शराब पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा हुआ है लेकिन नागालैंड की बात करें, तो यहां विस्की, रम और बियर पर प्रतिबंध नहीं है लेकिन अन्य तरह की शराब पर प्रतिबंध है।

29. यह आदिवासियों की धरती अपनी प्राकृतिक खूबसूरती, प्रदूषण मुक्त वातावरण, सुंदर लैंडस्केप और अतुलनीय सांस्कृतिक विरासत से टूरिस्ट को अपनी ओर लुभाती है।

30. नागा संस्कृति के अनुसार यहां बहुत सारे फेस्टिवल मनाये जाते हैं, यही वजह है कि इस राज्य को त्यौहार की धरती भी कहा जाता है।

हम उम्मीद करते है, कि आप सभी ने हमारे लिखी हुई पोस्ट पूरे ध्यान से और पूरी पढ़ी होगी, अगर नहीं पढ़ी हो तो एक बार पहले पोस्ट पढ़ें, और अगर फिर आपको कहीं लगे कि यह बात ऐसे नहीं ऐसे होनी चाहिए थी, तो कृपया कमेंट के माध्यम से हमें बताएं धन्यवाद।


सुनील कुमार

Back to top