शनिदेव देव जी की आरती हिंदी और इंग्लिश मे {2020}


पूजा  के अंत में हम सभी भगवानो की आरती करते हैं। आरती पूजन के अन्त में हम इष्टदेवता की प्रसन्नता के हेतु की जाती है। इसमें इष्टदेव को दीपक दिखाने के साथ उनका स्तवन तथा गुणगान किया जाता है। यह एक देवता के गुणों की प्रशंसा गीत है। आरती आम तौर पर एक पूजा या भजन सत्र के अंत में किया जाता है। यह पूजा समारोह के एक भाग के रूप में गाया जाता है।

भगवान शनिदेव को दंडाधिकारी माना जाता है। मनुष्य को उसके अच्छे और बुरे कर्मों का फल देने वाले शनि देव भगवान सूर्य के पुत्र माने जाते हैं। शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए लोग शनि मंदिरों में तेल चढ़ाते हैं। आज हम आपके साथ भगवान शनिदेव जी की आरती हिन्दी तथा इंग्लिश मे साझा कर रहे है आप अपने सुविधा अनुसार कोई भी माध्यम चुन सकतें है|

शनि देवजी की आरती (Shani Dev Ji Ki Aarti in Hindi)

!! जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी,
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी,
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी !!

!! श्याम अंक वक्र दृष्ट चतुर्भुजा धारी,
नालाम्बर धार नाथ गज की अवसारी,
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी !!

!! क्रीट मुकुट शीश रजित दिपत है लिलारी,
मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी,
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी !!

!! मोदक मिष्ठान पान चढ़त है सुपारी,
लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी,
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी !!

!! दे दनुज ऋषि मुनि सुमिरत नर नारी,
विश्वनाथ धरत ध्यान शरण हैं तुम्हारी,
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी !!

ॐ शं शनिश्चराय नमः

Shani Dev Aarti in English 

!! Jai Jai Shri Shanidev Bhagatan Hitkari,
Suraj Ke Putar Prabhu Chaya Mahtari,
Jai Jai Shri Shanidev Bhagatan Hitakari!!

!! Shyam Ank Vakr Drasht Chaturbhuja Dhari,
Nilambar Dhar Nath Gajj Ki Avsari,
Jai Jai Shri Shanidev Bhagatan Hitakari!!

!! Keet Mukut Shish Rahat Dipat Hai Lilari,
Muktan Ki Mala Gale Shobht Balihari,
Jai Jai Shri Shanidev Bhagatan Hitakari!!

!! Modak Mishthan Paan Chadhat Hai Supari,
Loha Til Tel Udad Mahishi Ati Pyari,
Jai Jai Shri Shanidev Bhagatan Hitakari!!

!! Dev Danuj Rishi Muni Sumirat Nar Nari,
Vishvnath Dhrat Dhyan Sharan Hai Tumhari,
Jai Jai Shri Shanidev Bhagatan Hitakari !!

कैसे करें भगवान की सच्ची आरती ?

यह बात तो सब जानते ही है की संसार पंच महाभूतों—पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश से बना है। आरती में ये पांच वस्तुएं (पंच महाभूत) रहते है—

  1. पृथ्वी की सुगंध—कपूर
  2. जल की मधुर धारा—घी
  3. अग्नि—दीपक की लौ
  4. वायु—लौ का हिलना
  5. आकाश—घण्टा, घण्टी, शंख, मृदंग आदि की ध्वनि

इस प्रकार सम्पूर्ण संसार से ही भगवान की आरती होती है।

मानव शरीर से भी कर सकतें है सच्ची आरती

मानव शरीर भी पंचमहाभूतों से बना है । मनुष्य अपने शरीर से भी ईश्वर की आरती कर सकता है ।

जाने कैसे ?

अपने देह का दीपक, जीवन का घी, प्राण की बाती, और आत्मा की लौ सजाकर भगवान के इशारे पर नाचना—यही सच्ची आरती है। इस तरह की सच्ची आरती करने पर संसार का बंधन छूट जाता है और जीव को भगवान के दर्शन होने लगते हैं।


सुनील कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top