डॉ भीमराव अम्बेडकर की इंटरव्यू जिसके बारे में शायद ही आप जानते हो


आधुनिक भारत और संविधान के निर्माता बाबासाहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के साथ कई ऐसी घटनाएँ हुई है जिनके बारे में बहुत ही कम लोगों को पता है| उनमे से कुछ घटनाओ के बारे में बाबासाहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर जी ने अपनी पुस्तकों में लिखा है| जिस में से में आज आपको एक एसी ही एक घटना के बारे हम इस लेख में बताने जा रहा हैं |

बात उस समय की है जब एक बार इंग्लैंड की एक पत्रिका के प्रतिनिधि इंग्लैंड से भारत यहां के कुछ प्रमुख नेताओं के इंटरव्यू लेने के लिए। उन्होंने यहाँ के कुछ प्रमुख नेताओं से मिलने के लिये नियोजित भेंट (Appointment) का समय मिला| उन्हें मिस्टर गांधी से मिलने का समय रात्रि के 9pm बजे का मिला और  जिन्ना से मिलने का समय 9:30 pm का मिला और डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने कहा कि वह किसी भी समय आ सकते हैं।

bhim rao ambedkar unknown facts

जब पत्रिका के प्रतिनिधि मिस्टर गांधी से मिलने गए तो उनसे कहा गया कि वह अभी सो गए हैं सो आप उनसे अगले दिन मिलने के लिए आए। जब पत्रिका के प्रतिनिधि मिस्टर जिन्ना के घर पहुंचे तो उनके यहां भी यही कहा गया कि वह सो गए हैं सो अगले दिन मिलने के लिए आए ।

इस बीच पत्रिका के प्रतिनिधि डॉ भीमराव अम्बेडकर के पास पहुंचने में उन्हें थोड़ी देर हो गयी और वह रात के 12:00 (बारह बजे) डॉ भीमराव अम्बेडकर के घर पहुंचे तो यह देख कर वह आश्चर्यचकित रह गए कि बाबासाहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर अपनी पूर्ण वेशभूषा में अध्यन्न करते हुए उनकी प्रतीक्षा कर रहे थे। इंग्लैंड के पत्रिका के प्रतिनिधि ने यह दखते हुए आश्चर्य से उनसे कहा, “आश्चर्य है, देश के दो महान नेता मिस्टर गांधी और मिस्टर जिन्ना, हमको सोए हुए मिले लेकिन आप अभी तक अपनी नियमित ड्रेस में हमारी प्रतीक्षा में जाग रहे हैं !

बाबासाहेब ने उत्तर दिया ” मिस्टर गांधी और मिस्टर जिन्ना आराम से सोते हैं, क्योंकि उनका समाज जागृत है – उनका समाज जागरूक है। मैं जाग रहा हूँ, क्योंकि मेरा समाज सोया हुआ है – अनभिज्ञ है, वह उनके समाज की भांति जागरूक नहीं है। ” इंग्लॅड से आए पत्रकार यह सुन कर अवाक् रह गए |

(यह प्रसंग पुस्तक ‘युगपुरुष बाबासाहेब डॉ भीमराव अम्बेडकरमें दिया है।)

ये भी पढ़े

बाबा साहेब डॉ भीम राव आंबेडकर के बारे में कुछ रोचक तथ्य 

डॉ. भीम राव आंबेडकर के कुछ अनमोल विचार

आखिर क्यूँ पूना पेक्ट के विरोध में थे बाबा साहेब डॉ. भीम राव आंबेडकर


Kapil Kumar

Back to top